Friday, 9 March 2012

मुहब्बत की वुसअत


ख्याले खाम नहीं हैं मुहब्बत की वुसअत
खुद खुदाई तस्हील हैं हुश्ने नुबुव्वत में ........रवि
...

No comments:

Post a Comment