Saturday, 3 December 2011

शीत ज्वाल

अंकुरित समुन्दर शौर मचाता है
एक अंधा प्रहार करता रेत पर
और दूसरा
बादलों पर,
यही बहुत है
आज लहरे उठती है
लेकिन कल आएगी क्रान्ति
शौर मचाता शून्य समुन्दर
शांत नहीं होगा

No comments:

Post a Comment