Saturday, 3 December 2011

दिन का सवेरा

आशाओं के सीने में
फिर जगता हैं नया दिन
और मरता हैं अन्धेरा
उठो ऐ प्राच्या
जागो ऐ विराटक
दिन का सवेरा
बहुत कुछ लाता हैं.

No comments:

Post a Comment